मिनरल वाटर प्लांट लाइसेंस | MINERAL WATER PLANT LICENSE [2023]

मिनरल वाटर प्लांट लाइसेंस (MINERAL WATER PLANT LICENSE): भारत में मिनरल वाटर प्लांट बिजनेस शुरू करने के लिए लाइसेंस लेना अनिवार्य है। कुछ महत्वपूर्ण लाइसेंस जैसे - फर्म रजिस्टर, MSME (SSI), BSI (ISO),NOC सर्टिफिकेट, ट्रेडमार्क पंजीकरण और मिनरल वाटर की गुणवत्ता परीक्षण रिपोर्ट होना अनिवार्य है।
मिनरल वाटर प्लांट लाइसेंस | mineral water plant license [2023]
MINERAL WATER PLANT LICENSE: मिनरल वाटर प्लांट लाइसेंस की संम्पूर्ण जानकारी 2023

मिनरल वाटर प्लांट लाइसेंस क्या है? Mineral water plant license

Responsive Ads

भारत में बिजनेस शुरू करने के लिए लाइसेंस लेना अनिवार्य है। बात करें मिनरल वाटर प्लांट लाइसेंस की तो यह आपको कानूनी सुरक्षा के साथ सरकारी स्कीम और लोन लेना आसान बनाता है। इस लेख में आप फर्म रजिस्टर कैसे करें, MSME पंजीकरण और मिनरल वाटर प्लांट हेतु उपयोगी लाइसेंस के बारे मे चर्चा करेंगे

WATER PLANT LICENSE COST?

मिनरल वाटर प्लांट लाइसेंस लागत (water plant license cost): मिनरल वाटर प्लांट बिजनेस शुरू करने के लिए लाइसेंस लेना अनिवार्य है। बिजनेस पंजीकरण और लाइसेंस लेने की अनुमानित लागत, 50 हजार से 1 लाख तक हों सकती है। इससे कम भी हो सकती है यह आपके स्थानीय राज्य सरकार पर निर्भर करता है।

1) फर्म का रजिस्ट्रेशन कैसे करे 

बिजनेस को कानूनी तौर पर रजिस्टर करवाना अनिवार्य है भारत में मिनरल वाटर प्लांट बिज़नेस को रजिस्टर करने के लिए 5 विकल्प मौजूद है-

  1. प्रोपराइटरशिप फर्म (एकल स्वामित्व वाली कंपनी)
  2. साझेदारी फर्म
  3. प्राइवेट लिमिटेड कंपनी
  4. सीमित देयता भागीदारी (LLP)
  5. एक व्यक्ति कंपनी (OPC)

वैसे तो यह सभी कानूनी इकाई व्यवसाय पंजीकरण के लिए अच्छी है। मगर हमें यह भी जानना होगा कि हमारे व्यवसाय के लिए कौन सी कानूनी इकाई उचित है। इन 5 कानूनी इकाई के बारे में उचित जानकारी हासिल करें, कानूनी विशेषज्ञ से सलाह लेकर निर्णय ले सकते हैं।

2) SSI / MSME पंजीकरण करें – 

SSI पंजीकरण सूक्ष्म, लघु और मध्यम स्तर के व्यवसायों के लिए MSME मंत्रालय द्वारा किया जाता है। इसमें भारत सरकार द्वारा छोटे कारोबारियों को लाभान्वित करता है। इसमें सब्सिडी, टैक्स छूट, लोन और अनेकों प्रकार की स्कीम शामिल होती है।

3) BSI का ISO सर्टिफिकेट 

मिनरल वाटर प्लांट के लिए BSI सर्टिफिकेट: BSI यानी Bureau of Indian Standards (भारतीय मानक ब्यूरो) एक अंतरराष्ट्रीय स्तर पर संगठन है जो मिनरल वाटर प्रोडक्ट की गुणवत्ता, सुरक्षा और विश्वसनीयता को प्रमाणित करता है।

4) प्रदूषण नियंत्रण / NOC सर्टिफिकेट –

मिनरल वाटर प्लांट सेटअप करने के लिए आपके स्थानीय राज्य के प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड विभाग से अनुमति जरूर लेनी चाहिए।

यहां राजस्थान राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड विभाग का विवरण है।

5) कच्चे और मिनरल वाटर की गुणवत्ता परीक्षण रिपोर्ट

आप जल गुणवत्ता जांच रिपोर्ट, BIS से बनवा सकते हैं। इसके लिए आप स्थानीय जल परीक्षण प्रयोगशाला में पानी की जांच करवा सकते हैं। आपको मिनरल वाटर और कच्चे जल परीक्षण की प्रयोगशाला रिपोर्ट सर्टिफिकेट बनवा लें।

6) ट्रेडमार्क पंजीकरण –

बिजनेस शुरू करने से पहले ब्रांड नाम का ट्रेडमार्क अवश्य लें। यह आपके ब्रांड नाम की रक्षा करता है। बाजार में ब्रांड नाम को कॉपी होने और लोगों को भ्रमित होने से बचाता है।

इन लाइसेंस और सर्टिफिकेट के अलावा कुछ छोटे मोटे सर्टिफिकेट की जरूरत होगी-

  • श्रमिकों के लिए चिकित्सा प्रमाण पत्र
  • केमिस्ट – डिग्री और मेडिकल सर्टिफिकेट
  • माइक्रोबायोलॉजिस्ट – डिग्री और मेडिकल सर्टिफिकेट
  • अपने ग्राम पंचायत की एनओसी (यदि लागू हो तो)

तो यह थे मिनरल वाटर प्लांट लाइसेंस और सर्टिफिकेट। जो भारत देश है मिनरल वाटर बिजनेस शुरू करने के लिए आवश्यक थे।

लाइसेंस बनवाने या सलाह के लिए अपने स्थानीय सलाहकार से मुलाकात करे। अधिकतर यह लोग CA, वकील या अनुभवी कारोबारी हो सकते हैं। अधिक जानने के लिए ऑनलाइन प्लेटफार्म JUSTDIAL या INDIAMART पर डीलर से संपर्क कर सकते हैं।


मिनरल वाटर प्लांट लाइसेंस FAQ

जल संयंत्र के लिए कौन सा लाइसेंस आवश्यक है?

निम्न लाइसेंस और सर्टिफिकेट होने चाहिए –
भारतीय मानक ब्यूरो से अनुमति, FSSAI लाइसेंस, कंपनी को सेल्स टैक्स देना होता है।, श्रमिकों को श्रम विभाग में रजिस्टर करवाना होगा, आरओ प्लांट के पानी की जांच रिपोर्ट हर माह भेजनी होती है।, कमर्शियल विद्युत कनेक्शन होना चाहिए।, आरओ प्लांट को पंजीकरण करवाने हेतु 27 तरह की जांच होती है।, सरकारी प्राविधान के अनुसार हर आरओ प्लांट में एक प्रयोगशाला और दो केमिस्ट जो प्रतिदिन पानी की जांच करेंगे। इसी के साथ अन्य सर्टिफिकेट और अनुमति लेनी चाहिए ताकि कानूनी सुरक्षा मिल सके।

वाटर प्लांट के लिए किन-किन अनुमतियों की आवश्यकता होती है?

मिनरल वाटर प्लांट के लिए अनुमतियों की आवश्यकता देश और राज्य के नियमों पर निर्भर करता है। हालांकि, कुछ आम अनुमतियों जैसे – BSI का ISO सर्टिफिकेट, प्रयोगशाला रिपोर्ट सर्टिफिकेट, केमिस्ट – डिग्री और मेडिकल सर्टिफिकेट और श्रमिकों के लिए चिकित्सा प्रमाण पत्र आदि ।


💡

आप अपना मिनरल वाटर प्लांट कैसे शुरू कर सकते हैं?

एक नया मिनरल वाटर प्लांट शुरू करने के लिए सही कदम जरुरी हैं। इस लेख में सही मार्केट रिसर्च, कमाई और लागत के बारे मे बताया है। गलत प्लानिंग आपके बिजनेस को बर्बाद कर सकती है। जानें आप 10 आसान स्टेप्स में मिनरल वाटर प्लांट कैसे शुरू कर सकते हैं?

मिनरल वाटर प्लांट शुरू करने के बारे में मेरी, चरण-दर-चरण मार्गदर्शिका पढ़ना न भूलें ।

आपको कामयाबी जरूर मिले! 👍

Mohan Lal
Mohan Lal

Mohan, Biz Hindi के सह-संस्थापक और Senior Editor हैं. इन्हें लोगों को बिजनेस, वित्त और उद्यमिता के बारे में नवीनतम जानकारी पहुँचाने में बहुत ख़ुशी मिलती है. ये मुख्यत: ऐसा content लिखना पसंद करते हैं, जिन्हें लोग पसदं करें और वो उनके बहुत काम आये.

17 Comments

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Business Idea: 2 लाख की कमाई, सिर्फ दो महीने में: घर से शुरू करें ये बिजनेस! कमाल का बिजनेस: एक बार हो जाए शुरू तो नहीं होगी पैसों की कमी घर पे लगालों ये 20 हजार की मशीन, हर महीना 40 हजार कमाई पक्की… गांव में टॉप 10 बिजनेस, इनसे होगी लाखों मे कमाई SevaHUB : विक्रेताओं के लिए एक अनोखा स्टार्टअप