एक व्यक्ति कंपनी – One Person Company (OPC) की पूरी जानकारी 2023

Responsive Ads

One Person Company (OPC) प्रसिद्ध कानूनी इकाई है। अगर आप नया स्टार्टअप या कंपनी शुरू करना चाहते हैं, तो आपको एक व्यक्ति कंपनी के बारे मे जरूर जानना चाहिए।

  • आंकड़े बताते हैं कि भारत में अब तक लगभग 45,360 एक व्यक्ति कंपनी है। पिछले साल 1001 नई One Person Company (opc company) अस्तित्व में आई हैं।
  • कंपनी रजिस्ट्रेशन करने से पहले, आप कंपनी की सभी संरचना जैसे – One Person Company, Partnership, Sole Proprietorship, LLP, Private Limited Company और Public Limited Company के बारे मे जान ले। 
  • यह लेख उन लोगों के लिए मददगार होगा, जो एक नया व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं। यह आपको कंपनी की सही कानूनी संरचना का चुनाव करने में मदद करेगा।

हाल के वर्षों मे, हमारे देश मे उद्यमिता (Entrepreneurship) का अद्भुत विकास हुआ है। हालांकि, एक नया स्टार्टअप या बिजनेस शुरू करने के लिए उचित प्रयास, पूंजी और कंपनी रजिस्ट्रेशन अथवा कानूनी अनुपालन की जरूरत होती है। इसलिए, भारत सरकार ने उद्यमियों के लिए बिजनेस शुरू करना और उसे चलाना आसान बनाने के लिए वर्ष 2013 मे, एक व्यक्ति कंपनीOne Person Company (OPC) की अवधारणा पेश की है।

यह भी पढ़े : 12 महीने चलने वाला बिजनेस शुरू कर बने लखपति! (10 Ideas) छठा सबसे अच्छा है!!!

इस ब्लॉग पोस्ट में हम वन पर्सन कंपनी क्या होती है? (OPC Kya Hai) One Person Company registration, benefits, features और one person company examples देखेगे। चलिए पहले जानते है एक व्यक्ति कंपनी (One Person Company in Hindi) के बारे मे –

Types of business – व्यावसायिक संस्थाओं के प्रकार

भारतीय कानून से मान्यता प्राप्त लगभग 8 प्रकार की व्यावसायिक संस्थाएँ (Types of business) इस प्रकार है

  • एक व्यक्ति कंपनी (One Person Company)
  • निजी कंपनी (Private Limited Company)
  • सार्वजनिक कंपनी (Public Limited Company)
  • एकल स्वामित्व (Sole Proprietorship)
  • सामान्य साझेदारी (General Partnership)
  • सीमित देयता भागीदारी (LLP – Limited Liability Partnership)
  • हिंदू अविभाजित परिवार (Hindu Undivided Family)
  • सहकारी समिति (Co-operative Society)

एक व्यक्ति कंपनी – One Person Company in Hindi

एक व्यक्ति कंपनी (OPC) एक प्रकार की व्यावसायिक कानूनी संरचना है, जिसे भारत में ‘कंपनी अधिनियम 2013’ के तहत, पेश किया गया था। जिसमें एक अकेला व्यक्ति नवीन कंपनी का स्वामी और प्रबंधन कर सकता है।

One Person Company के मालिक को “निदेशक” के रूप में जाना जाता है। समय के साथ आपका बिजनेस बड़ा हो जाता है और अधिक पूंजी या शेयरधारकों की आवश्यकता होती है, तो आप OPC को एक निजी लिमिटेड कंपनी में परिवर्तित कर सकते है।

कुल मिलाकर, एक ओपीसी उन उद्यमियों के लिए एक बढ़िया विकल्प है जो सीमित देयता संरक्षण के लाभों के साथ एक छोटा व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं और अनुपालन आवश्यकताओं को न्यूनतम रखते हुए एक अलग कानूनी पहचान रखते हैं।

एक व्यक्ति कंपनी क्या है? | what is one person company

opc company का पूरा नाम “One Person Company” है। यह एक कानूनी तंत्र का हिस्सा है। इस कानून के अनुचार अकेला व्यक्ति नवीन कंपनी का निर्माण कर सकता है। कानूनी तंत्र में OPC की शुरुआत एक ऐसा परिवर्तन है जो सूक्ष्म व्यवसाय तथा उद्यमशीलता के समामेलीकरण को प्रोत्साहन देता है।

One Person Pompany Meaning

कंपनी अधिनियम, 2013 की धारा 2(62) के अनुचार, ‘एक व्यक्ति कंपनी का आशय ऐसी कंपनी से है जिसका सदस्य केवल एक व्यक्ति हो’ एक सदस्य के रूप में वह अकेला व्यक्ति ‘एक व्यक्ति कंपनी’ का मात्र अंशधारी होगा।

एक व्यक्ति कंपनी

भारत में एक व्यक्ति कंपनी (OPC) की शुरुआत?

भारत में 31 मई, 2005 को डॉ जमशेद जे ईरानी और उनकी विशेषज्ञ समिति ने OPC के निर्माण की सलाह दी। उन्होंने सुझाव दिया कि कानूनी छूटों के माध्यम से एक ऐसी सरल और सहज व्यवस्था वाली ईकाई उपलब्ध करवाई जाए, जिससे देश के छोटे उद्यमियो को उलझी हुई और जटिल कानूनी व्यवस्था हेतू, परेशानी का सामना नहीं करना पड़े।

एक व्यक्ति कंपनी मे संशोधन (बजट 2021-2022)

भारत मे 1 फरवरी 2021 को केन्द्रीय बजट 2021-2022 पेश किया गया, जिसमे ओपीसी के कंपनी (निगमन) नियम, 2014 के नियम 3, 6 और 7 में संशोधन किया गया है। MCA ने संशोधन को अधिसूचित किया है जो 1 अप्रैल, 2021 से प्रभावी होगा। इनमे 5 बड़े बदलाव किए गए है जो निम्न है –

  • स्टार्टअप और छोटे बिजनेस को बढ़ावा देने के लिए, केन्द्रीय बजट 2021-2022 में OPC निगमन हेतु उल्लेखनीय बदलाव किया गया है।
  • अब भारत में अनिवासी भारतीय (NRI) एक व्यक्ति कंपनी (OPC) की शुरुआत कर सकता है।
  • OPC गठन के लिए अनिवासी भारतीय की आवासन की सीमा 182 दिन से घटाकर 120 दिन की गई है।
  • एक व्यक्ति कंपनी को प्राइवेट लिमिटेड कंपनी या अन्य किसी भी प्रकार की Company मे, रूपांतरण अपनी स्वेच्छा से कर सकता है। OPC निगमन समाप्त होने के लिए अब 2 वर्ष की अवधि को समाप्त कर दिया है।
  • अब OPC बिना प्रदत्त पूंजी और कारोबार पर प्रतिबंध के वे अपना विकास कर सकती है। पहले सीमा 2 करोड़ से अधिक का राजस्व और 50 लाख से अधिक की चुकता पूंजी होने पर, एक व्यक्ति कंपनी को प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में परिवर्तित करने की आवश्यकता होती थी।

One Person Company Turnover Limit kya hai?

शून्य, आपको बता दे 1 अप्रैल, 2021 से भारत सरकार ने one person company turnover limit को शून्य कर दिया है।

क्या एक व्यक्ति कंपनी (OPC) आपके व्यवसाय का सबसे अच्छा कानूनी रूप है?

क्या आप अपनी कंपनी पंजीकरण हेतू कानूनी संरचना को लेकर कन्फ्यूज है, और जानना चाहते है की क्या वन पर्सन कंपनी मेरे बिजनेस के लिए उत्तम कानूनी संरचना है। तो आपको यह जानना जरूरी है की हमारे देश में क्षेत्रवार वन पर्सन कम्पनिया (Sector wise OPC in india) का क्या प्रतिशत है और बिजनेस के किस क्षेत्र में सबसे ज्यादा एक व्यक्ति कम्पनिया (OPC) है

भारत में क्षेत्रवार एक व्यक्ति कंपनी (Sector wise OPC in india)

हमारे देश मे कानूनी संरचना OPC के अंतर्गत अलग-अलग क्षेत्रो में अनेकों बिजनेस है। अर्थव्यवस्था के 10 बड़े क्षेत्रो मे काम कर रहे है। जैसे – बिजनेस सर्विस, मैन्यफैक्चरिंग, ट्रैडिंग, कम्यूनिटी पर्सनल, सोशल सर्विस, ऐग्रिकल्चर, अलाइड एक्टिविटीज, रियल एस्टेट, रेंटिंग, ट्रांसपोर्ट, स्टोरेज, कम्युनिकेशन्स, इलेक्ट्रिसिटी, गैस, वॉटर सप्लाई कम्पनीज, माइनिंग और कर्र्यींग आदि।

Sector wise One Person Companies in India

भारत में ज्यादातर एक व्यक्ति कम्पनिया Business Services में है। मेरे अनुसार OPC की अवधारणा विशेष रूप से छोटे व्यापार मालिकों, फ्रीलांसरों और पेशेवरों के लिए फायदेमंद है जो अपने व्यापार के लिए एक अलग कानूनी पहचान चाहते हैं लेकिन साझेदारी या बड़ी कंपनी बनाने की ज़िम्मेदारी नहीं लेना चाहते हैं।

यह भी पढ़े

👉 Business idea : 365 दिन चलने वाला बिजनेस, जानिए कैसे करें स्टार्ट..?

👉 Rich Dad Poor Dad Quotes in Hindi

एक व्यक्ति कंपनी की विशेषताएं – features of one person company

One Person Company वास्तव मे एक निजी (Private) कंपनी है। जिसके कारण एक निजी सीमित कंपनी (private limited company) के सभी लाभ इसे प्राप्त होंगे

जैसे – पृथक वैधानिक इकाई, व्यवसाय के दायित्वों से निजी संपत्ति का सुरक्षित होना तथा शाश्वत उत्तराधिकार।

  • एक मालिक: एक व्यक्ति कंपनी में केवल एक ही मालिक अथवा निदेशक होता है, जो कंपनी का एकमात्र शेयरधारक भी होता है।
  • संबंधों की अपेक्षा से अधिक उपयोगी: एक व्यक्ति कंपनी को संबंधों के प्रबंधन (relationship management) में ज्यादा उपयोगी माना जाता है। वन पर्सन कंपनी को खासकर छोटे उद्योगों और व्यवसायों के लिए बनाया गया था जहां संबंधों की उपस्थिति कम होती है।
  • संचालन और नियंत्रण: एक व्यक्ति कंपनी का संचालन और नियंत्रण, अन्य व्यवसायों की तुलना में अधिक आसान है।
  • स्वतंत्रता और अनुशासन: OPC का संचालन अनुशासनपूर्वक और स्वतंत्र रूप से होता है। कंपनी का मालिक सभी निर्णय अपनी मर्जी से और जिम्मेदारी के साथ लेता है।

एक व्यक्ति कंपनी के लाभ – Benefit of One Person Company

एक प्राइवेट लिमिटेड कंपनी को मिलने वाले सभी सरकारी लाभ एक व्यक्ति कंपनी (OPC) को प्राप्त होंगे, जैसे – 

  • संपत्ति सुरक्षा – व्यवसाय के दायित्वों से निजी संपत्ति का सुरक्षित होना
  • निजी कंपनी – एक वन पर्सन कंपनी को एक निजी लिमिटेड कंपनी के रूप में शामिल किया गया है। यह एक पृथक वैधानिक इकाई है।
  • व्यक्तिगत स्वतंत्रता – यह कुशल व्यक्ति को अपनी पसंद के मुताबिक व्यवसाय को शुरू करने की इजाजत देता है।
  • स्वतंत्रता – व्यक्तित्व संचालित जुनून और एक व्यावसायिक योजना का कार्यान्वयन।
  • व्यक्तिगत प्रतिबद्धता – व्यवसाय के प्रति व्यक्तिगत प्रतिबद्धता जो व्यक्ति का एकमात्र विचार है और उसके दिल के करीब है।

एक व्यक्ति कंपनी की पात्रता

एक व्यक्ति कंपनी के निर्देश निम्न है –

  • केवल एक प्राकृतिक व्यक्ति जो भारतीय नागरिक है तथा ‘भारत का निवासी’ है— (क) एक व्यक्ति कंपनी के समामेलन हेतू योग्य है। (ख) एक व्यक्ति कंपनी के एकल सदस्य का नामांकित है। 
  • कोई भी व्यक्ति एक से अधिक ‘एक व्यक्ति कंपनी’ के समामेलन अथवा एक से अधिक ऐसी कंपनी में नामांकित बनने हेतु योग्य नहीं है। 
  • जब कोई प्राकृतिक व्यक्ति इस नियम के अनुक्रम ‘एक व्यक्ति कंपनी’ में सदस्य होने के साथ-साथ किसी अन्य ‘एक व्यक्ति कंपनी’ में नामांकित होने के कारण उस कंपनी का सदस्य बन जाता है तो वह उप-नियम(2) में विशिष्टीकृत योग्यता कसौटी को 180 दिन में ही पूरा कर सकता है।
  • “एक व्यक्ति कंपनी’ में कोई अवयस्क सदस्य अथवा नामांकित नही बन सकता अथवा लाभप्रद हित के अंश का धारण नहीं कर सकता। 
  • ऐसी कंपनी अधिनियम की धारा 8 के अंतर्गत समामेलित नहीं की जा सकती अथवा कंपनी के रूप में परिवर्तित नहीं की जा सकती।
  • ऐसी कंपनी गैर-बैंकिंग वित्तीय निवेश क्रियाएँ, जिनमें निगमित निकाय की प्रतिभूतियों में निवेश सम्मिलित है, नहीं कर सकती। 
  • एक व्यक्ति कंपनी के समामेलन के दो वर्ष व्यतीत होने से पूर्व ऐसी कंपनी स्वैच्छिक रूप से कंपनी के किसी अन्य प्रकार में परिवर्तित नहीं हो सकती, सिवाय उन कंपनियों के जिनकी प्रदत्त अंश पूँजी की सीमा 50 लाख रुपये से आगे बढ़ाई गई है अथवा संबद्ध अवधि में इसकी औसत वार्षिक आवर्त दो करोड़ रुपये से अधिक है।

स्पष्टीकरण— इस नियम के उद्देश्य से ‘भारत का निवासी’ वह व्यक्ति है जो ठीक पिछले कैलेंडर वर्ष में न्यूनतम 182 दिन भारत में रहा हो।

एक व्यक्ति कंपनी पंजीकरण – one person company registration

एक व्यक्ति कंपनी को पंजीकृत करने के लिए निम्न स्टेप्स का पालन करें –

  • अपनी कंपनी के लिए एक नाम चुनें: आपको अपनी एक व्यक्ति कंपनी के लिए एक अद्वितीय (Unique) नाम SPICe+ 32 आवेदन फॉर्म भरकर रजिस्टर करवाएं और यह सुनिश्चित करें कि यह नाम पहले से पंजीकृत नहीं है या किसी मौजूदा ट्रेडमार्क का उल्लंघन नहीं कर रहा है।
  • डिजिटल सिग्नेचर सर्टिफिकेट (DSC) प्राप्त करें: रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज (RoC) के साथ इलेक्ट्रॉनिक दस्तावेज जमा करने के लिए डिजिटल सिग्नेचर सर्टिफिकेट की जरुरत होती है।
  • रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज (RoC) को आवेदन फाइल करें: आपको एक व्यक्ति कंपनी पंजीकरण के लिए Registrar of Companies (RoC) को आवेदन फाइल करने के साथ आवश्यक दस्तावेजों जैसे MOA सब्सक्राइबर शीट, AOA सब्सक्राइबर शीट, पहचान प्रमाण, पता प्रमाण आदि के साथ आवेदन करना होगा।
  • निगमन प्रमाणपत्र प्राप्त करें: रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज (RoC) द्वारा आवेदन स्वीकृत होने के बाद, आपको अपने एक व्यक्ति कंपनी के लिए निगमन प्रमाणपत्र प्राप्त होगा।
  • निदेशक पहचान संख्या (DIN) प्राप्त करें: कंपनी के निदेशक के रूप में नियुक्त होने के लिए आपको कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय (MCA) से निदेशक पहचान संख्या प्राप्त करना होगा।
  • एक बैंक खाता खोलें: आपको अपनी One Person Company के नाम से एक बैंक खाता खोलना होगा और एक पैन कार्ड और टैन कार्ड प्राप्त करना होगा।
  • MCA को दस्तावेज जमा करें – मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन, एसोसिएशन के लेख, फॉर्म INC-9 और DIR-2 के प्रस्तावित निदेशक की घोषणा और सहमति। उपयुक्त दस्तावेज MCA (कॉरपोरेट अफेयर्स मंत्रालय) साइट पर अपलोड करना होगा।

एक व्यक्ति कंपनी पंजीकरण (One Person Company Registration) करने के लिए किसी वकील अथवा पेशेवर से सलाह लेना या कानूनी सलाह लेना उचित है।

एक व्यक्ति कंपनी FAQ

एक व्यक्ति कंपनी क्या है (OPC Kya Hai)

One Person Company (OPC) का मतलब एक ऐसी कंपनी से है, जिसमें सदस्य के रूप में शेयरधारक केवल एक ही व्यक्ति होता है। हालांकि, निदेशक (डायरेक्टर) अधिकतम 15 हो सकते है। एक व्यक्ति कंपनी ‘कंपनी अधिनियम 2013’ आने से संभव हो पाया है।

वन पर्सन कंपनी कैसे शुरू करें?

OPC की शुरुआत करने के लिए केवल एक व्यक्ति की जरूरत होती है। जिसका भारतीय नागरिक होना अनिवार्य है। एक व्यक्ति कंपनी छोटी कम्पनीयों के लिए सही विकल्प है।

ओपीसी पंजीकरण की प्रक्रिया क्या है?

एक व्यक्ति कंपनी पंजीकरण (OPC Registration Process) प्रक्रिया कदम दर कदम गाइड –
1. DSC सर्टिफिकेट बनवाए : ओपीसी पंजीकरण की प्रक्रिया डिजिटल हस्ताक्षर यानि डिजिटल सिग्नेचर सर्टिफिकेट (DSC) बनवाने से शुरू होती है।
2. कंपनी का नाम रजिस्टर करवाए : MCA (कॉरपोरेट अफेयर्स मंत्रालय) से कंपनी का नाम अनुमोदन करवाए।
3. एमसीए के साथ फॉर्म भरना : सभी आवश्यक अनुमोदन के लिए MCA साइट पर अपलोड करे।
4. पैन और टैन प्राप्त करे : आयकर विभाग कंपनी रजिस्टर करने पर एक पैन और टैन आवंटित करता है। इसके लिए अलग से आवेदन करने की जरूरत नहीं है।

सीमित देयता का अर्थ क्या है?

OPC मे सीमित देयता कंपनी अर्थ – एक व्यक्ति कंपनी का मालिक लिए गए बिजनेस लोन का भुगतान करने के लिए, व्यक्तिगत तौर पर जिम्मेदार नहीं होगा।

OPC मे कितने लोग होने चाहिए?

वन पर्सन कंपनी मे केवल एक ही सदस्य अथवा मालिक होना चाहिए यानि OPC मे एक से अधिक शेयरधारक नहीं हो सकते है। हालांकि, कंपनी प्रबंधन हेतू अधिकतंम 15 निदेशक हो सकते हैं।

ओपीसी का फुल फॉर्म क्या है?

OPC ka full form : ONE Person Company. व्यापार में ओपीसी का क्या अर्थ एक व्यक्ति कंपनी से है।

अस्वीकरण: यहां प्रदान की गई सामग्री केवल सूचना उद्देश्यों के लिए है। जब आप साइट या सामग्री का उपयोग करते हैं या उसका उपयोग करते हैं तो कोई वकील-ग्राहक संबंध नहीं बनता है। इस साइट पर प्रस्तुत की गई जानकारी कानूनी या पेशेवर सलाह का गठन नहीं करती है और ऐसे उद्देश्यों के लिए इस पर भरोसा नहीं किया जाना चाहिए या आपके राज्य में लाइसेंस प्राप्त वकील से कानूनी सलाह के विकल्प के रूप में उपयोग नहीं किया जाना चाहिए।

Mohan Lal
Mohan Lal

Mohan, Biz Hindi के सह-संस्थापक और Senior Editor हैं. इन्हें लोगों को बिजनेस, वित्त और उद्यमिता के बारे में नवीनतम जानकारी पहुँचाने में बहुत ख़ुशी मिलती है. ये मुख्यत: ऐसा content लिखना पसंद करते हैं, जिन्हें लोग पसदं करें और वो उनके बहुत काम आये.

5 Comments

    • हा, One Person Company उन लोगों के लिए सही कानूनी संरचना है, जो बिजनेस सर्विस, मैन्यफैक्चरिंग, ट्रैडिंग, कम्यूनिटी पर्सनल, सोशल सर्विस आदि क्षेत्र मे अकेले कंपनी शुरू करना चाहते है।

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Business Idea: 2 लाख की कमाई, सिर्फ दो महीने में: घर से शुरू करें ये बिजनेस! कमाल का बिजनेस: एक बार हो जाए शुरू तो नहीं होगी पैसों की कमी घर पे लगालों ये 20 हजार की मशीन, हर महीना 40 हजार कमाई पक्की… गांव में टॉप 10 बिजनेस, इनसे होगी लाखों मे कमाई SevaHUB : विक्रेताओं के लिए एक अनोखा स्टार्टअप